शुक्रवार, 4 अगस्त 2017

बैद्यनाथ की कावरिया यात्रा

बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।
पाँव-पाँव चलता चल भक्ता, बन जायेगा तेरा कल ।।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

कावर साजो अथवा पिठ्ठुल, साजो पहले निज मन ।
बोल बम्म के नारोंं से, ऊर्जा भरलो अपने तन ।
बैद्यनाथ कामना लिंग है, देंगे तुझको वांक्षित बल ।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

उत्तर वाहिनी गंज गंगा, लेकर इसके पावन जल ।
अजगैबीनाथ पाँव धर कर, चल रे भक्ता चलता चल ।
चाफा मनिहारी गोगाचक, कुमारसार पथ बढ़ता चल ।।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

जिलेबिया नाथ टगेश्वर चल, बढ़ता चल चल सुइया पथ
शिवलोक भूल भुलईया, दर्शनिया तक तन को मथ ।
फिर शिवगंगा बाबानगरी, देगें तुझे शांति के पल ।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

चाहे पड़े पाँव में छाले, चाहे चूर-चूर हो तन ।
बोल बम्म कहता चल भक्ता, बाबा काे धरकर मन ।
बैद्यनाथ की महिमा प्यारी, भर देंगे तुझमें बल।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

नन्हे नन्हे बालक चलते, चलते लाखों नारी नर ।
झूम झूम कर बोल रहे सब, हर बोल बम्म बढ़-चढ़ कर ।
बीस कोस की भुइया पैदल, चल रहे सभी हैं प्रतिपल ।

चल चल
बाबा की नगरी चल चल रे, बाबा के द्वारे चल-चल ।

एक टिप्पणी भेजें